Click to this video!

दिल्ली की आंटी के साथ मजे लिए

Delhi ki aunty ke sath maje liye:

desi aunty sex stories, hindi porn kahani

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम दीपक है और मैं पंजाब का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 24 साल है | मैं अब दिल्ली में जॉब करता हूँ मेरी लम्बाई 5.8 इंच है और मैं देखने में ठीक-ठाक लगता हूँ | आज मैं आप लोगो के सामने जो कहानी लेकर आया हूँ | वो मेरी जिन्दगी की सच्ची कहानी है | अब मैं ज्यादा आप सब को बोर ना करते हुए अपनी कहानी पर आता हूँ |

वैसे तो मैंने बहुत लड़कियों के साथ सेक्स किया है पर ये कहानी मेरी पड़ोस की आंटी की है जो की देखने में बहुत मस्त है | उनकी उम्र 26 साल है | उनका बदन गठीला और चूचियाँ टाइट है | वो बहुत ही सेक्सी है | उनको देखकर मेरा लंड हमेशा पैंट फाड़ने लगता है | मैं उनको चोदने के बारे में हमेशा सोचता रहता हूँ | मैं रोज उनके नाम की मुठ मारता हूँ | उनको अगर कोई भी सामान मगाना होता था तो वो हमेशा मुझसे ही मंगाती थी | एक दिन की बात है उन्होंने मुझसे कुछ सामान मगाया | मैं सामन लेने मार्केट गया और मैं सामान लेके जब वापस आया तो आंटी बाथरूम में थी |

मैंने उनको आवाज दी तो उन्होंने मुझसे कहा की तुम बैठो मैं अभी आई | मैं बैठ गया मैंने कुछ आवाज़ सुनी तो मैं बाथरूम के पास गया और की-होल से देखा की आंटी अपनी झांटे बना रही थी | उनकी गुलाबी चूत देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया | आंटी ने झांटे बना ली फिर वो अपनी चूत को सहलाने लगी और अपनी चूत में उँगली डालने लगी | कुछ देर बाद वो झड गयी फिर उन्होंने खुद को साफ़ किया और बाहर आने को तैयार हुई | मैं झट से वहां से हटा और आकर सोफे पर बैठ गया | पर मेरा लंड अब भी खड़ा था | उन्होंने मेरे खड़े लंड की तरफ देखा | उनको कुछ शक हुआ पर उन्होंने कुछ नहीं कहा मैं उनका सामन देकर वापस अपने घर आ गया | मेरा लंड बैठने का अनाम ही नहीं ले रहा था | मैंने बाथरूम में जाकर उनकी चूत को याद करके मुठ मारी तब जाकर मुझे कुछ आराम मिला | उस दिन से मैं और उनकी चूत का दीवाना हो गया |

उसके बाद मैं जब भी उनके घर जाता तो उनके बूब्स को घूर कर देखता | उन्होंने इस बात को नोटिस किया पर मुझ से कुछ नहीं बोली | एक दिन मैं उनके घर पहुंचा तो वो बाथरूम से नाहा कर निकली थी | वो सिर्फ ब्लाउस और पेटीकोट में थी | उनको देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया | उन्होंने मेरे लंड की तरफ देखा वो हलकी से मुस्कुराई और फिर वो कमरे में चली गयी | मैं चुपके से उनके कमरे के दरवाजे के पास जाकर खड़ा हो गया और उनको देखने लगा | उन्होंने अपने सारे कपडे उतार दिए फिर उन्होंने अपने पूरे शारीर में लोसन लगाया मैं उनको खड़ा देख रहा था | मेरा लंड सलामी दे रहा था | थोड़ी देर बाद उन्होंने कपडे पहने तब तक मैं जाकर बैठ गया | फिर वो मेरे लिए चाय बनाकर लायी | उन्होंने मुझे चाय दी जब वो मुझे चाय देने के लिए झुकी तो उनके बूब्स साफ़ चमक रहे थे | वो जानबूझ कर थोड़ी देर झुकी कड़ी रही | उनके बूब्स देखकर मेरा मन कर रहा था की मैं उनको बस गिरा कर वही चोद दूं पर मैंने खुद को सम्हाला |

उन्होंने मुझसे कहा क्या देख रहे हो दीपक मैंने हडबडा कर कहा कुछ नहीं आंटी | उन्होंने मुझसे कहा की कुछ तो देख रहे हो और उन्होंने मुझसे कहा की मैंने देखा की तुम मेरे दरवाज़े के पास भी खड़े मुझे देख रहे थे | अब मैं समझ गया की उनके मन में क्या है | वो भी लं की प्यासी है | मैंने कहा कुछ नहीं आंटी आप इतनी खूबसूरत है की किसी की भी नजर फिसल जाये | उन्होंने मुझ से कहा की अच्छा बताओ मुझ में तुमको क्या सबसे अच्छा लगता है | मैंने कहा की आप के बूब्स बहुत अच्छे है और आप की गांड भी बहुत मस्त है | उन्होंने मुझसे कहा और क्या अच्छा लगता है मुझमे | मेरे मुहँ से धोखे में निकल गया की और आप की गुलाबी चूत | वो एक दम मुझे देखने लगी | उन्होंने मुझसे कहा की तुमने वो कब देखीं | मैंने कहा की जब आप अपनी झांटे बना रही थी तब मैं आप को की-होल से देखा था |

उन्होंने मुझको मुस्कुराते हुए देखा और हंस कर कहने लगी की तुम बहत बदमाश हो गए हो | मुझे छुपकर देखते हुए तुमको शर्म नहीं आई | मैंने कहा की नहीं आंटी आप को देख कर मुझे जो आनंद प्राप्त हुआ है वो किसी को देख कर नहीं हुआ | मैंने जब से आप की चूत देखि है मैं पागल हुआ जा रहा हूँ | आंटी ने मुझसे कहा की अच्छा तूने मेरी चूत तो देख ली चल अब अपना लंड मुझको दिखा | मैं अन्दर ही अन्दर ख़ुशी से उछल पड़ा | मैंने अपनी पैंट खोली और अपना लंड निकाल कर उनके सामने रख दिया मेरे लंड को देख कर आंटी की आँखों में एक अजीब से चमक आ गयी | उन्होंने मुझ से कहा दीपक तेरा लंड तो बहुत बड़ा है | तेरे अंकल से भी बड़ा | मैंने कहा आपको पसंद आया | उन्होंने कहा हाँ और फिर वो मेरे लंड पर झपट पड़ी और मेरे लंड को ऊपर-नीचे करने लगी उसके बाद उन्होंने मेरे लंड को अपने मुहँ में ले लिया और चूसने लगी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था |

मैं जिन आंटी को सोंच कर मुठ मरता था | आज वो मेरा लंड चूस रही थी | मुझे तो ऐसा लग रहा था जैसे मैं जन्नत में पहुच गया हूँ | मैं धीरे-धीरे आंटी के मुहँ को चोदने लगा | मैंने आंटी के सिर को पकड़ा और उनके मुहँ में धक्के लगाने लगा | आंटी मेरे लंड को लोलीपॉप की तरह चुसे जा रही थी वो मेरे लंड को इस तरह चूस रही थी जैसे वो बहुत दिनों से लंड की भूंखी हो | मैं झड़ने वाला हो गया | मैंने कहा की आंटी मैं झड़ने वाला हूँ | उन्होंने कहा कोई बात नहीं वो मेरे लंड को चुस्ती रही मैं उनके मुहँ में ही झड गया | मेरा सारा माल पी गयी | उन्होंने मेरे लंड को चूस कर-कर साफ़ किया |मैंने आंटी को पकड़ा और उनके गर्दन पर किस करने लगा | मैंने उनकी साड़ी उतार दी और उनके बूब्स को मसलने लगा | वो भी मेरे पूरा साथ दे रही थी | मैंने उनके होंठो पर अपने होंठ रखे और चूसने लगा | वो भी मुझे किस किये जा रही थी |

मैंने आंटी के ब्लाउस को खोलकर निकाल दिया और उनके मम्मो को आज़ाद कर दिया | मैं उनके मम्मो को मसलने लगा | फिर मैंने उनकी चूचियां अपने मुहँ में रख दी और चूसने लगा | वो मदहोश होने लगी थी | मैंने उनकी चूचियों को चूसते-चूसते उने पेटीकोट को उतार दिया | मैंने उनकी चूत पर पैंटी के ऊपर से ही उँगली डाल दी | आंटी की पैंटी गीली हो चुकी थी | मैंने आंटी की चूचियां चूसकर लाल कर दी फिर मैंने उनकी पैंटी उतार दी और उनकी चूत पर अपना मुहँ रखा और उनकी चूत को चाटने लगा | आंटी एक दम पागल होने लगी उन्होंने मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाना सुरु कर दिया | उनके मुहँ से आह्ह्ह ओह्ह्ह इश्ह्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | मैंने आंटी की चूत में अपनी जीभ डाल दी वो उछल पड़ी पड़ी वो कहने लगी दीपक और कितना तड्पाएगा अपनी आंटी को अब डाल भी दे अपना लंड मेरी चूत में मुझसे अब रहा नहीं जा रहा |

मैंने आंटी की सोफे पे बिठाया और आंटी की दोनों टाँगे फैलाई और एक झटके में अपना पूरा लंड आंटी की चूत में डाल दिया आंटी की चीख निकल गयी | उन्होंने मुझसे कहा की जरा आराम से करो दीपक बहुत दिन से तुम्हारे अंकल ने मेरी चूत नहीं मारी है | मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने सुरु कर दिए | मैं आंटी की चूत में बराबर लंड डाल रहा था वो भी अपनी कमर चलाकर मेरा पूरा साथ दे रही थी | और जोर-जोर से चिल्ला रही थी | मारो दीपक मेरी चूत फाड़ दो मेरी चूत को फाड़कर भोसडा बना दो आज तक ऐसा मज़ा तुम्हारे अंकल ने भी नहीं दिया है | उनके मुहँ से आह्ह्ह उम्ह्ह ओह्ह्ह की आवाजे निकल रही थी | उसके बाद हम दोनों झड गए | फिर हम दोनों ने अपने-अपने कपडे पहने फिर आंटी ने मुझे किस किया और कहने लगी की आज तक इतना मज़ा मुझे कभी नहीं मिला | उसके बाद मैंने आंटी की कई बार चूत मारी |


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


hot bhabhi chudai kahanihinde sax movieboss ki beti ko chodamassage chudaichudai wali hindi kahanihindi cudai kahanisapna chutwww sex auntydehati indian sex videosurekha fuckingchudai story videokaamwali sexchut ki chudaeerassi se bandh kar chodasali ki chudai in hindi storybeti ki beti ki chudaisex story villagegaand me unglighar mein chodaaunty ki chudai hindi storychoda chudai kahanichut ka darddidi ne doodh pilayasagi chachi ki chudaixxx chudai ki kahani in hindihind sax storysapna dancer sex videoraat ki mast chudaima ko choda khanirat me maa ko chodabhabhi sexy stories hindipeon ne chodaindian suhagrat ki chudaimale servant sex storieshind saxy storyanjali bhabhi chudaichudai ki kahaniya in hindi pdfindian hindi fuck storiesrandi ki chudai kinew ladki chudaichachi ki burantarvasna 2008shadi me bhabhi ki chudaichudai exbiishivani ki chudaididi ki chudai kizabardasti chudai ki kahanibest sex story hindichachi ki chudai hindi sexy storyantarvastra story in hindi with photosbehan bhai ki kahanibhai ne zabardasti chodabhabhi ki chodai hindi kahaniwww badmusti comchudai ka dardbehan bhabhi ki chudaimosi ki chudai ki kahanikuvari ladki ko choda8 sal ki chutmaa ki chudai antarvasna comchut chudaibur mein lundlesbian story hindidesi kahani comchudai hindi kahanipati patni chudaidevar bhabhi indian sexdesi chachi ki chudai storysex fuck in hindiindian ladki ki chudai ki kahanichudai ki kahani in hindi freetight chootdehati indian sex videochudai ki kahani desiantarvasna inrandi maa ki chudaijija sexpyar me chudai ki kahanichodne ki hindi kahaniantarvasna sex com12 saal ki chutbarish mai chodamaa ki gand chudai story